भोपालराजनीतिक

परिश्रम का कोई पर्याय नहीं: राज्यपाल

भोपाल। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि कड़ी मेहनत और कर्त्तव्यनिष्ठा से ही सफलता मिलती है। परिश्रम का कोई पर्याय नहीं है। देश को आजादी कड़े संघर्ष के बाद मिली है। इसे बनाए रखने के लिए जरूरी है कि हम सभी राष्ट्रीय भावना के साथ अपना कर्तव्य निभाएं। राज्यपाल गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होकर लौटे एनसीसी कैडेट्स के एट होम कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थी। कार्यक्रम में गणतंत्र दिवस समारोह में उत्कृष्ट उपलब्धि अर्जित करने वाले कैडेट अंडर ऑफिसर गरिमा सिंह भदौरिया, योगेश दधोरे और सीनियर केप्टन दीपेंद्र सिंह जादौन को सम्मानित किया गया।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि युवा वर्ग में अनुशासन तथा एकता की भावना का विकास करने में एनसीसी संगठन का सराहनीय योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि एनसीसी में महिलाओं की भागीदारी गर्व की बात है। श्रीमती पटेल ने समाज का आव्हान किया कि बच्चों को एनसीसी में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें। राज्यपाल ने आशा व्यक्त की कि भविष्य में भी एनसीसी के कैडेट्स नये जोश से नई उपलब्धियाँ अर्जित कर देश, प्रदेश का नाम रौशन करेंगे।

राज्यपाल को एनसीसी शिविर में कैडेट द्वारा निर्मित समुद्री पोत का मॉडल स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट किया गया। अतिरिक्त महानिदेशक एनसीसी मेजर जनरल मुकेश के. दत्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश के 51 और छत्तीसगढ़ के 27 जिलों में एक लाख युवा एनसीसी का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इनमें 30 प्रतिशत बालिकाएँ हैं। एनसीसी द्वारा संचालित खेल और साहसिक गतिविधियों में कैडेट्स की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने बताया कि देश की सशस्त्र सेना में 3 कैडेट का चयन हुआ है और 12 कैडेट ने रूस सहित 10 अन्य देश की यात्रा की है। उप महानिदेशक ब्रिगेडियर केजेएस राठौर और ग्रुप कमाण्डर ब्रिगेडियर अनिल हुड्डा भी उपस्थित थे।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Bitnami