ट्रेंडमध्प्रदेशहॉट न्यूज़

वर्दी से इतना प्यार, आप भी करोगे जनाब के जज्बे को सलाम

इंदौर। प्रशासनिक नौकरी और मोटी तनख्वाह लेकर आरामदायक जिंदगी हर कोई पाना चाहता है। लेकिन एमपीपीएससी में चौथी रैक हासिल करने वाले मयंक तिवारी ने यह साबित कर दिया कि वर्दी की चाहत इस सबसे ऊपर है। क्योंकि मंयक तिवारी ने कलेक्टर पद न चुन कर पुलिस में डीएसपी बनना पंसद किया।

यहां से मिली प्रेरणा
मयंक प्रशासनिक पद पर रहने के बजाय मैदान में उतरकर प्रदेश से अपराध की गंदगी साफ करना चाहते हैं। जिसकी वजह बचपन में घटित एक घटना है। जब वे स्कूल में पढ़ते थे तो गृहनगर अनूपपुर में एक तेजतर्रार आईपीएस अधिकारी आए। उनके आते ही एकाएक शहर का माहौल बदल गया। अवैध शराब और जुए के अड्डे बंद हो गए, सड़क पर गुंडागर्दी खत्म हो गई। एक वर्दी वाले के सही काम करने से पूरे शहर को बदलते देखा। दूसरी ओर, पंजाब में पुलिस महानिदेशक और सुपरकॉप के तौर पर पहचाने जाने वाले केपीएस गिल के ऑपरेशन ब्लैक थंडर ने बहुत प्रभावित किया। जिसके वाद उन्हें वर्दी से प्यार हो गया।

उनकी नजर में वर्दी की इतनी इज्जत है कि उन्होंने कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर न बनकर डीएसपी बनना ज्यादा पंसद किया। वर्दी के प्रति उनका जुनून इतना है कि वे अब यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं। लेकिन उनका कहना है कि वे इसमें भी चयन होने पर कलेक्टर पद नहीं बल्कि आईपीएस अधिकारी बनकर वर्दी पहनेगें।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Bitnami